Paradhin Sapne Sukh Nahi Essay In Hindi

Posted in Poems

Next post → ← Prev post

बंद कमरे की हवा भी
बहुत अजीब होती है
इसके पास दुनिया की
आख़िर कौन सी
सुख-सुविधा नहीं है
आयातित खुश्बुओं से
इसे सुगंधित किया जाता है
वातानुकूलक से इसे शीतल रखा जाता है
दिन रात चलते पंखे
इसके अकेलेपन को चीरते रहते हैं
ये बाहर की सर्दी, गर्मी,
बारिश, लू के थपेड़ों से,
आवारा आँधी तूफ़ानों से
बच के रहती है।

फिर भी ना जाने
क्या कमी सी रह गयी है
बंद कमरे की हवा का
बंद कमरे में मन लगता ही नहीं;
पारदर्शी खिड़कियों से
जब देखो तब
बाहर निहारा करती है,
बार बार पर्दे खोलकर
कमरे के बाहर के नज़ारे लिया करती है,
अफवाहें तो कुछ ऐसी भी थी कि
बंद कमरे की हवा
बाहर की खुली हवा से
दरवाजे के नीचे से छुप छुप के
बातें भी करती थी।

कमरे का माहौल ही कुछ ऐसा था,
दीवारों पर टँगे हुए मूक चित्रों से,
या नीरस जलते हुए बिजली के लट्टुओं से;
गंभीरता की हदें पार करते झाड़-फानूसों से,
या मेज के एकटक घूरते हुए नकली फूलों से;
बंद कमरे की हवा बात करे भी तो किससे
आख़िर कमरे के अन्य निवासियों में
बाहर की दुनिया देखी भी थी तो किसने?
जब कभी दरवाजा ज़रा भी खुलता था
तो बंद कमरे की हवा
लपक कर निकल उठती थी;
दोगुने उत्साह से
बाहर की खुली हवा से
गले मिलती थी
ऐसे लगता था जैसे
इसकी सदियों की मुराद
आज पूरी हो गयी हो
और मन बरबस कह उठता था
पराधीन सपनेहुँ सुख नाहीं।
जैसे कि हम सब जानते हैं कि 26 जनवरी 2018 यानी की Republic Day बहुत नज़दीक आ गया है! हम सभी भारतीय इस दिन का बेसब्री से इंतेज़ार कर रहे होते है तो चलिए आज हम इस Blog पोस्ट मे Republic day speech in hindi यानी हम 26 january speech in hindi लिखेंगे!

Republic Day Speech in Hindi for School Students, Teachers and Kids [26 January 2018 - गणतंत्र दिवस पर भाषण]


दोस्तो, इस पोस्ट मे आज हम दो अलग अलग republic day speech in hindi (गणतंत्र दिवस पर भाषण) के बारे मे लिख रहे है! इन speeches को स्कूल के बच्चे, अध्यापक और अन्य लोग जिनको गणतंत्र दिवस पर भाषण वाले स्पीच की ज़रूरत हो इसे इस्तेमाल कर सकते है!


गणतंत्र दिवस पर इन जागहों पर कई प्रकार के कार्यक्रम शिक्षकों और छात्रों द्वारा आयोजित किये जाते हैं जिससे की बच्चों का ज्ञान बढ़ सके और भारत के गणतंत्र दिवास - Republic Day  के विषय में वे जान सकें।

आज के दिन ही हमारे देश का संविधान बना था! आज का दिन हम भारत वासियों के लिए बहुत ही खास होता है! इस दिन को भारत मे एक त्योहार की तरह मनाया जाता है! इस दिन हर एक भारतीय के अंदर देश प्रेम की भावना देखने को मिलती है! जगह-जगह पे प्रेड की जाती है, तिरंगा फहराया जाता है! इस दिन स्कूल के बचों मे भी बहुत उतशाह रहता है!

#1 Republic Day Speech in Hindi (गणतंत्र दिवस पर भाषण)

नमस्कार मैं हूं ....(self introduction)
मैं अपने पूरे देश वासियों को गणतन्त्र दिवस की बधाई देता हूं। साथ ही आने वाले भविष्य की उज्जवल कामना करता हूं

यह तो आप सभी जानते है कि हम हल साल 26 जनवरी के दिन गणतन्त्र दिवस क्यों मनाते है। क्योंकि इस दिन हमारे देश में पूर्ण रूप से आजाद हुआ था। आज हमारे देश को आजाद हुए 70 साल और सविंधान लागु हुए 68 साल होने को जा रहा है।

अगर कोई हम से ये पूछे कि गणतन्त्र दिवस का मतलब क्यो होता है तो कम ही लोग इसका जवाब दे पायेंगे, लेकिन हम आपकों इसका मतलब क्या होता है तो कम ही लोग इसका जवाब दे पायेंगे। लेकिन हम आपकों इसका मतलब सरल शब्दों में समझाने की कोशिश करते है।


गणतंत्र का अर्थ है कि देश में रहने वाले हर एक इंसान के पास सर्वोच्च शाक्ति यानि की सबसे बड़ी शाक्ति होती है जो अपने देश के लिए सही दिशा में देश का विकास करने वाला राजनितिक नेता चुनने का अधिकार है।जो जनता के सुख- दुख को समझते हुए देश की कमान संभाल सके। इसलिए भारत एक गणतंत्र देश है। यहां की जनता ने अपना नेता प्रधानमंत्री के रूप में चुना है। स्वतंत्रता के ढाई वर्ष के बाद भारत सरकार ने स्वयं का संविधान लागु किया और भारत को एक प्रजातांत्रिक गणतंत्र घोषित किया। लगभग 2 वर्ष, 11 महीने और 18 दिन के बाद 26 जनवरी 1950 को भारत के संविधान को भारत की संविधान सभा में पास किया गया। इस घोषणा के बाद से इस दिन को प्रतिवर्ष भारतीय लोग गणतंत्र दिवस के रूप में मनाने लगे।

एक और खास बात यह है कि भारत देश में पूर्ण स्वराज्य हमें इतनी आसानी से प्राप्त नही हुआ है।  इस आजादी के लिए हमारे देश के कई बड़े सेनानियो नें अपने प्राणों की आहुति दी है। तो कईयों ने अपनी जिंदगी में घोर कष्टों का सामना किया। और उन महान वीरों ने इतना संर्घष इसलिए किया है ताकि उनकी आगे की आने वाली पीढ़ी अपनी जिंदगी सुखी से व्यतीत कर सके। और देश को एक उज्जवल भविष्य प्रदान कर सके।

Ye bhi padhe,

Republic Day Essay in Hindi

जिन भारत के वीरों ने हमें अग्रेजों के अत्याचारों से मुक्ति दिलाई है उनके सर्मपण को सदियों तक नही भुलाया जा सकता है। देश के इन वीरों में से कुछ महान नेता और स्वतंत्रता सेनानी हुए। इनमें महात्मा गांधी, भगतसिंह, चन्द्रशेखर आजाद ,लाला लाज पतराय, सरदार वल्लभ भाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री आदि हैं। भारत को एक आजाद देश बनाने के लिए इन लोगों ने अपना सर्वस्य न्यौछावर करते हुए अग्रेंजों के खिलाफ लड़ाई लडी। और इनके सर्मपण को भुल से भी नही भुलाया जा सकता है। हम सभी को इन महान लोगों को सलामी देनी चाहिए। हमेशा ये बात याद रखनी चाहिए, कि हम आज इन्हीं लोगों की वजह से हम आजाद घूम रहे है, अपने दिमाग से सोच रहे है, बिना किसी दबाव के हम देश में मुक्त होकर रह सकते है।.

इस सविंधान को डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने लिखा था। जो विश्व का सबसे लम्बा लिखित सविंधान है। हमारे सविंधान में देश के प्रत्येक लोगो को अपने अधिकार दिए गये है। जिनकी सहायता से प्रत्येक व्यक्ति पूरी स्वतंत्रता के साथ अपना जीवन जी सकता है।लेकिन फिर भी आज ये शर्म से कहना पड़ रहा है कि कुछ लोगों के पास सारे अधिकार होते हुए भी उन अधिकारों से जीवन निर्वहन करने का अधिकार नही है। देश में अभी भी अपराध, भष्टाचार और हिंसा, आंतकवाद ,आदि के गुलाम हो रहे है। भले ही इनसे लड़ने की कोशिश जारी है लेकिन अभी भी सफलता से कोसो दूर है। पूरे देशवासियों को फिर से ऐसी गुलामी से देश को बचाने के लिए एक जुट होना होगा।

धन्यवाद

जय हिन्द, जय भारत

Note: This Republic day speech in hindi is written for Teachers!

#2 Republic Day Speech in Hindi ( 26 January गणतंत्र दिवस पर भाषण)

मेरी आदरणीय प्रधानाध्यापक मैडम,  मेरे आदरणीय सर और मैडम और मेरे सभी सहपाठियों को सुबह का नमस्कार। हमारे गणतंत्र दिवस पर कुछ बोलने के लिये ऐसा एक महान अवसर देने के लिये मैं आपको धन्यवाद देना चाहूंगा। मेरा नाम.....है।(self introduaction)

आज, हमारे राष्ट्र के 66वें गणतंत्र दिवस को मनाने के लिये हम सभी यहाँ पर एकत्रित हुए हैं। हम सभी के लिये ये एक महान और शुभ अवसर है। हमें एक- दूसरे को बधाई देना चाहिये और अपने राष्ट्र के विकास और समृद्धि के लिये भगवान से दुआ करनी चाहिये। हर साल 26 जनवरी को भारत में हम गणतंत्र दिवस मनाते हैं। हम लोग 1950 से ही लगातार भारत का गणतंत्र दिवस मना रहें हैं क्योंकि 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ था।

भारत एक लोकतांत्रिक देश है। लोक तांत्रिक का मतलब सरल शब्दो में कहे तो ........जनता का तंत्र..... जहां देश के नेतृत्व के लिये अपने नेता को चुनने के लिये जनता को अधिकार है। डॉ. राजेन्द्र प्रसाद भारत के पहले राष्ट्रपति थे।1947 में ब्रिटिश शासन से जब से हम ने स्वतंत्रता प्राप्त की है,  तब से हमारे देश ने बहुत विकास किया है। और ताकतवर देशों में गिना जाने लगा है। विकास के साथ साथ देश  में कई प्रकार बड़ी समस्याएं भी सामने आई है जो देश के लिए और लोगों के जीवन के लिए बेहद ही घातक बनती जा रही है। और अगर इन समस्याओं पर ध्यान दे तो वो हमे सुनने में बेहद ही आसान सी लगेगी कि, क्योंकि आए दिन हम हमारे आस पास इन समस्याओं को सुनते रहते है। ये समस्या असमानता, गरीबी , बेरोजगारी, भष्ट्राचार, अशिक्षा आदि है। ये समस्याएं हमारे लिए और आने वाली पीढी के लिए दिन-प्रतिदिन बेहद ही घातक बनती जा रही है। एक तरह से अगर ये कहे कि ये सभी समस्याए हमारे देश को दीमक की तरह धीरे-धीरे खोखला बना रहीहै। जो नजर तो आ रही है, पर उसका हल नही निकाला जा रहा।  लेकिन देश के हर एक इंसान को अपने हिसाब और तरीके से अपने देश को विश्व का एक बेहतरीन देश बनाने के लिए और समाज में ऐसी समस्याओं को सुलझाने के लिए प्रतिज्ञा लेनी पडेगी। 

डॉ. अब्दुल कलाम ने कहा है कि“ अगर एक देश भ्रष्ट्राचार मुक्त होता है और सुंदर मस्तिष्क का एक राष्ट्र बनता है, मैं दृढ़ता से महसूस करता हूं कि तीन प्रधान सदस्य हैं जो अंतर पैदा कर सकते हैं। वो पिता,  माता और एक गुरु हैं”। भारत के एक नागरिक के रुप में हमें इसके बारे में गंभीरता से सोचना चाहिये और अपने देश को आगे बढ़ाने के लिये सभी मुमकिन प्रयास करना चाहिये।

तो हम सभी को डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की कही हुई बातों पर ध्यान करते हुए देश को सही दिशा में ले जाना चाहिए।

धन्यवाद

जय हिन्द,जय भारत

Note: This Republic day speech in hindi is written for School Students!

तो ये थी हमारी republic day speech in hindi और हम उम्मीद करते है की आप सबको बहुत पसंद आया होगा! इन republic day speeches को अपने दोस्तो के साथ भी ज़रूर share करे!

Categories: 1

0 Replies to “Paradhin Sapne Sukh Nahi Essay In Hindi”

Leave a comment

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *